गुरुग्राम में फिर गरजे बुलडोजर, पटौदी की 15 कॉलोनियों में अवैध निर्माण ध्वस्त भूमाफियाओं में दहशत

ऐसी और जानकारी सबसे पहले पाने के लिए हमसे जुड़े
WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now

पटौदी की 15 कॉलोनियों में अवैध निर्माण: गुरुग्राम के पटौदी इलाके में सोमवार को बारिश के बीच 15 अवैध कॉलोनियों पर प्रशासन के बुलडोजर चले। इस दौरान छह स्थानों पर 14 एकड़ जमीन पर 35 से अधिक अवैध निर्माण ध्वस्त कर दिए गए।

पटौदी की 15 कॉलोनियों में अवैध निर्माण

गुरुग्राम में अवैध निर्माण और अतिक्रमण के खिलाफ बुलडोजर एक्शन लगातार जारी है। प्रशासन की इस कार्रवाई से भूमाफियाओं में दहशत का माहौल है। पटौदी क्षेत्र में भी सोमवार को बारिश के बीच 15 अवैध कॉलोनियों पर प्रशासन के बुलडोजर चले। डीटीपी के तोड़फोड़ दस्ते ने इन कॉलोनियों में अवैध निर्माण को गिराया। इस दौरान छह स्थानों पर 14 एकड़ जमीन पर 35 से अधिक अवैध निर्माण ध्वस्त कर दिए गए।

प्रशासन की ओर से अवैध निर्माण करने वालों को चेतावनी दी गई है कि बिना अनुमति के दोबारा कॉलोनी में भवन निर्माण किया तो उन पर एफआईआर दर्ज होगी। डीटीपी विभाग को पटौदी के गांव नारहेरा और ऊंचा माजरा के बारे सूचना मिली थी कि यहां पर अवैध रूप से निर्माण कार्य हो रहा है। इस पर विभाग की ओर से जांच कराई गई। इसमें अवैघ कॉलोनी विकसित करने की सूचना सही पाई गई।

पटौदी की 15 कॉलोनियों में अवैध निर्माण

सोमवार दोपहर बाद ड्यूटी मजिस्ट्रेट व जीएमडीए के कार्यकारी अभियंता ओपी मलिक के नेतृत्व में डीटीपी मनीष यादव, एटीपी दिनेश सिंह, जेई आनंद, प्रशांत के साथ पटौदी पहुंचे। यहां पर पांच एकड़ में बनाई जा रही दो कॉलोनियों में अवैध निर्माण पर कार्रवाई की। इसमें 16 डीपीसी स्तर तक का निर्माण, पांच बाउंड्रीवाल और सड़कों का नेटवर्क भी ध्वस्त किया। इसके बाद दस्ता गांव नरहेरा में पहुंचा। यहां दो एकड़ में बनाई जा रही अवैध कॉलोनी में भी निर्माण को ध्वस्त कर दिया। कार्रवाई के बाद दस्ता गांव ऊंचा माजरा में निर्माणाधीन मकान, अवैध रूप से बनाई जा रही दुकान आदि को तोड़ दिया। यहीं पर एक एकड़ में एक अवैध कॉलोनी बनाई जा रही थी।

यहां पर तीन दुकानें, एक निर्माणाधीन मकान और बाउंड्रीवाल ध्वस्त किया। इसी तरह पटौदी रोड विलासपुर के पास ऊंचा माजरा में दुकानें, निर्माणाधीन मकान ध्वस्त किया। लोगों से डीटीपी प्रवर्तन मनीष यादव ने कहा कि अवैध कॉलोनियों में इस तरह का निर्माण करने से पहले विभाग से जांच पड़ताल करा लें।

Leave a Comment