WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now

अपने घर में तुलसी जी का विवाह कैसे करें

तुलसी जी का विवाह: शाम के समय, परिवार सभी सदस्यों के साथ इस प्रकार तैयार होता है, जैसे एक विवाह समारोह के लिए होता है।

अपने घर में तुलसी जी का विवाह कैसे करें:

  • तुलसी का पौधा एक पटिये पर आंगन, छत या पूजा घर के बीच में स्थापित किया जाता है।
  • तुलसी के गमले के ऊपर, गन्ने का मंडप सजाया जाता है।
  • तुलसी देवी को समर्पित, सुहाग सामग्री के साथ लाल चुनरी से ढंका जाता है।
  • गमले में सालिग्राम जी रखे जाते हैं।
  • सालिग्राम जी पर चावल नहीं, बल्कि तिल चढ़ाया जाता है।
  • तुलसी और सालिग्राम जी पर दूध में भीगी हुई हल्दी लगाई जाती है।
  • गन्ने के मंडप पर हल्दी का लेप किया जाता है और उसकी पूजा की जाती है।
  • हिंदू धर्म में, विवाह के समय मंगलाष्टक का पाठ अनिवार्य है।
  • देव प्रबोधिनी एकादशी से शुरू होकर कुछ वस्तुएं खाना आरंभ की जाती हैं, जैसे भाजी, मूली, बेर, और आंवला, जो पूजा में चढ़ाने के लिए लाई जाती हैं।
  • कपूर के साथ आरती की जाती है, और मंगलारति के बाद प्रसाद चढ़ाया जाता है।
  • तुलसी जी की परिक्रमा 11 बार की जाती है।
  • प्रसाद को मुख्य आहार के साथ ग्रहण किया जाता है और उसका वितरण भी किया जाता है।
  • पूजा समाप्त होने पर, घर के सभी सदस्यों को चारों दिशाओं से पटिया उठाकर भगवान विष्णु से जागरूक करने का आह्वान किया जाता है

एक आराधना का सुखद भाव है – ‘हे सांवले सलोने देव, भाजी, बोर, आंवला चढ़ाने के साथ हम चाहते हैं कि आप जाग्रत हों, सृष्टि का कार्यभार संभालें और शंकर जी को पुनः उनकी यात्रा की अनुमति दें।

इस मंत्र का उच्चारण करते हुए भी, देव को जागाया जा सकता है – ‘उत्तिष्ठ गोविन्द त्यज निद्रां जगत्पतये, त्वयि सुप्ते जगन्नाथ जगत् सुप्तं भवेदिदम्।’ ‘उत्थिते चेष्टते सर्वमुत्तिष्ठोत्तिष्ठ माधव, गतामेघा वियच्चैव निर्मलं निर्मलादिशः।’ ‘शारदानि च पुष्पाणि गृहाण मम केशव, प्रसाद चढ़ायें, 11 बार तुलसी जी की परिक्रमा करें, और प्रसाद को मुख

Leave a Comment

Stay informed about the latest government job updates with our Sarkari Job Update website. We provide timely and accurate information on upcoming government job vacancies, application deadlines, exam schedules, and more.